रिलायंस 2जी सेवा 30 नवंबर से हो रही है बंद

अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कम्‍युनिकेशंस (आरकॉम) अपना वायरलेस बिजनेस जल्‍द ही बंद कर सकती है। न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार, भारी कर्ज से जूझ रही रिलायंस कम्‍युनिकेशंस नवंबर आखिर तक अपना 2जी मोबाइल बिजनेस बंद कर देगी। इंडस्‍ट्री सोर्सेस से कहा गया है कि कंपनी ने अधिकांश इम्‍प्‍लॉइज को नोटिस देकर जॉब छोड़ने के लिए कहा है।

3जी और 4जी सर्विस पर होगा फोकस!

न्‍यूज एजेंसी के अनुसार, कंपनी अपनी 3जी और 4जी सर्विस देना जारी रखेगी। इस माह की शुरुआत में एयरसेल के साथ मर्जर डील पूरी करने में विफल रहने के बाद रिलायंस कम्‍युनिकेशंस ने यह कदम उठाया है। आरकॉम को इस संबंध में भेजे गए ईमेल का खबर लिखे जाने तक कोई जवाब नहीं मिल पाया है। रिलायंस कंम्‍युनिकेशंस पहले ही कह चुकी है वह कंपनी अपने मोबाइल बिजनेस के लिए अल्‍टरनेटिव उपायों पर विचार कर रही है। इसके तहत 4G LTE तकनीक की तरफ फोकस करना भी एक विकल्‍प है।

30 नवंबर उनका लास्‍ट वर्किंग डे 

सूत्रों के अनुसार, कंपनी के इम्‍प्‍लॉइज को नोटिस दे दिया गया है कि 30 नवंबर उनका लास्‍ट वर्किंग डे होगा।  मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार , रिलायंस टेलिकॉम के एग्जिक्युटिव डायरेक्टर गुरदीप सिंह ने मंगलवार को अपने इम्‍प्‍लॉइज को बिजनेस बंद करने संबंधी जानकारी दे दी है। हालांकि, रिलायंस कम्‍युनिकेशंस की ओर से इस मामले में ऑफिशियली कोई जानकारी सामने नहीं आई है।

कैसे अपना नेटवर्क पोर्ट कर जाने क लिए क्लिक करे :-

5% से ज्यादा टूटा स्टॉक

वायरलेस बिजनेस बंद करने की खबर से कारोबार में रिलायंस कम्युनिकेशंस के स्टॉक में 5 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली। बीएसई पर स्टॉक 5.55 फीसदी टूटकर 16.15 के स्तर पर पहुंच गया।

क्‍यों रद्द हुई एयरसेल मर्जर डील?

रिलायंस कम्‍युनिकेशन के अनुसार, कानूनी व रेग्‍युलेटरी अनिश्चितता और कई अन्‍य दिक्‍कतों के चलते एयरसेल के साथ मर्जर डील के लिए जरूरी मंजूरियां नहीं मिल सकीं। कंपनी के अनुसार भारतीय टेलिकॉम सेक्‍टर में अचानक बढ़ा कॉम्पिटीशन और बैंक से कर्ज मिलने में दिक्कतों के चलते एयरसेल से मर्जर को लेकर हुआ समझौता पूरा नहीं हो सका।

दोनों कंपनियों ने आरकॉम के मोबाइल कारोबार का एयरसेल के साथ विलय को लेकर सितंबर 2016 में बाध्यकारी समझौता किया था। हालांकि, कंपनी ने उम्‍मीद जताई है कि उसका सिस्‍टेमा श्‍याम टेलीसर्विस (एमटीएस इंडिया) का मर्जर इसी माह पूरा हो जाएगा। बता दें, आरकॉम और एयरसेल ने सितंबर 2016 में रिलायंस कम्युनिकेशंस के वायरलेस बिजनेस के साथ एयरसेल के मर्जर के लिए एग्रीमेंट किया था।

भारी कर्ज के दबाव में है कंपनी

रिलायंस कम्‍युनिकेशंस फिलहाल 44 हजार करोड़ रुपए के कर्ज के बोझ से दबी है। कंपनी के अनुसार, वह कर्ज में कमी लाने के लिए भी योजना पर काम कर रही है। कंपनी की टॉवर बिजनेस और रियल एस्‍टेट बिजनेस का कुछ हिस्‍सा बेचकर पैसे जुटाने की योजना थी। इसके अलावा स्‍पेक्‍ट्रम ऑप्टिमाइजेशन से कुछ पैसा बचाने का भी टारगेट था। इस तरह कंपनी 25 हजार करोड़ रुपए जुटाना चाहती है, जिससे कंपनी कंपनी का कर्ज कम किया जाएगा। हालांकि एयरसेल डील रद्द होने से उसकी कर्ज घटाने की योजना मुश्किल में फंसती दिख रही है।

RComको लगातार तीसरी तिमाही में घाटा

RCom को जून क्वार्टर के दौरान 1,210 करोड़ रुपए का कंसॉलिडेटेड लॉस हुआ, जबकि जून, 2016 में समाप्त क्वार्टर के दौरान उसे 90 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ था। यह लगातार तीसरा क्वार्टर है, जब आरकॉम ने घाटा दर्ज किया है।

Jio Effects: Reliance DTH Shutdown its business also. Read Here: http://theviralplus.com/tata-sky-take-over-reliance-big-tv/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *